Samast Paapnashak Stotra | समस्त पापनाशक स्तोत्र | Powerful Mantra to Cure Sins

Samast Paapnashak Stotra as Per Agni Puran

In the Agni Puran, a hymn has been described for atonement for various types of sins committed by human beings. Due to ignorance, if a person commits a sinful act, then he has to transmit twice the amount of sin committed intentionally.

If a sinful act has been done in secret, then there is a law to atone for it secretly and if it is a sinful act, then it is a law to atone for it manifestly.

Lord Ved Vyas Ji has established 18 Puranas, out of which Agni Dev has given various sermons to Maharishi Vashisht Ji in Agni Purana. Under these objectives, Agni Dev ji has told about the Samast Paapnashak Stotra.

On this, Mahatma Pushkar ji says that theft of human mind, killing someone, having sex with any other woman or women other than his wife, drinking alcohol, cow slaughter, Brahmin killing, etc. commits all kinds of sins. When his mind is calm and pure then he remembers the sins committed by him and the desire to get rid of these sinful deeds becomes strong.

Atonement for all kinds of sins is completed by offering divine and wonderful praise to Lord Shri Hari Narayan ji. Therefore this divine and secret stotra is known as Samast Paapnashak Stotra. (Most Powerful Mantra to Cure All Sins)

Described in the Agni Puran (Agni Puran: 172.19-21) all the sin-destroying Stotras (Samast Paapnashak Stotra) are as follows:-

अग्निपुरण वर्णित समस्त पापनाशक स्तोत्र

अग्नि पुराण (Agni Puran) में मनुष्य के द्वारा किए गए विभिन्न प्रकार के पापों के प्रायश्चित के लिए एक स्तोत्र का वर्णन किया गया है। अज्ञानता वश अगर किसी मनुष्य से कोई पाप कर्म हो जाता है तो उसकी अपेक्षा जानबूझकर किए गए पाप का दुगना प्रेषित करना पड़ता है।

यदि पाप कर्म गुप्त रूप से किया गया है तो गुप्त रूप से ही प्रायश्चित तथा प्रकट रूप से पाप कर्म होने पर प्रकट रूप से ही प्रायश्चित करने का विधान है। 

भगवान वेदव्यास जी ( God Ved Vyas Ji) ने 18 पुराणों की स्थापना की है जिसमें से अग्नि पुराण में महर्षि वशिष्ठ जी (Maharishi Vashisht Ji) को अग्नि देव ने विभिन्न उपदेश दिए हैं। इन्हीं उद्देश्यों के अंतर्गत अग्नि देव जी ने समस्त पाप नाशक स्तोत्र (Samast Paapnashak Stotra) के बारे में बताया है।

इस पर महात्मा पुष्कर जी (Mahatma Pushkar Ji) का कहना है कि मनुष्य मन की मलिंतावश चोरी, किसी की हत्या कर देना, अपनी पत्नी को छोड़ किसी अन्य स्त्री या स्त्रियों के साथ संभोग करना, मदिरापान, गौ हत्या, ब्राह्मण हत्या, आदि विभिन्न प्रकार के पाप करता है। जब उसका मन शांत होता है और शुद्ध होता है तब उसे अपने द्वारा किए गए पाप कर्म याद आते हैं और इन पाप कर्मों से मुक्ति की इच्छा प्रबल होती है।

सभी तरह के पापों का प्रायश्चित भगवान श्री हरि नारायण जी (Lord Shri Hari Narayan) की दिव्य एवं अद्भुत स्तुति करने से पूरा होता है। अतः इस दिव्य तथा गोपनीय स्तोत्र को समस्त पापनाशक स्तोत्र (Samast Paapnashak Stotra) के नाम से जाना जाता है। (Most Powerful Mantra to Cure All Sins)

अग्निपुरण (Agni Puran) में वर्णित (अग्नि पुराण : १७२.१९ -२१) समस्त पाप नाशक स्तोत्र (Samast Paapnashak Stotra) इस प्रकार है:-

Shree Sukta or Sri Suktam

पुष्करोवाच | Pushkarovaach

 विष्णवे विष्णवे नित्यं विष्णवे विष्णवे नमः ।
नमामि विष्णुं चित स्थमहंकारगतिं हरिम् ॥
Vishnave Vishnave Nityan Vishnave Vishnave Namah
Namaami Vishnun Chit Sthamahankaaragatin Harim

चित्तस्थमीशमव्यक्तमनन्तमपराजितम् ।
विष्णुमीडयमशेषेण अनादिनिधनं विभुम् ।।
Chittasthameeshamavyaktamanantamaparaajitam
Vishnumeedayamasheshen Anaadinidhanan Vibhum

विष्णुश्चित्तगतो यन्मे विष्णुर्बुद्धिगतश्च यत् ।
यच्चाहंकारगो विष्णुर्यव्दिष्णुमॅयि संस्थितः ॥
Vishnushchittagato Yanme Vishnurbuddhigatashch Yat
Yachchaahankaarago Vishnuryavdishnumaiyi Sansthitah

करोति कर्मभूतोऽसौ स्थावरस्य चरस्य च ।
तत् पापं नाशमायातु तस्मिन्नेव हि चिन्तिते ॥
Karoti Karmabhootosau Sthaavarasy Charasy Ch
Tat Paapan Naashamaayaatu Tasminnev Hi Chintite

ध्यातो हरति यत् पापं स्वप्ने दृष्टस्तु भावनात् ।
तमुपेन्द्रमहं विष्णुं प्राणतातिॅहरं हरिम् ॥
Dhyaato Harati Yat Paapan Svapne Drshtastu Bhaavanaat
Tamupendramahan Vishnun Praanataatiaiharan Harim

जगत्यस्मिन्निराधारे मज्जमाने तमस्यधः ।
हस्तावलम्बनं विष्णुं प्रणमामि परात्परम् ॥
Jagatyasminniraadhaare Majjamaane Tamasyadhah
Hastaavalambanan Vishnun Pranamaami Paraatparam

सर्वेश्वरेश्वर विभो परमात्मन्नधोक्षज ।
हृषीकेश हृषीकेश हृषीकेश नमोऽस्तु ते ॥
नृसिंहानन्त गोविंद भूतभावन केशव ।
दुरुक्तं दुष्कृतं ध्यातं शमयाधं नमोऽस्तु ते ॥
Sarveshvareshvar Vibho Paramaatmannadhokshaj
Hrsheekesh Hrsheekesh Hrsheekesh Namostu Te
Nrsinhaanant Govind Bhootabhaavan Keshav
Duruktan Dushkrtan Dhyaatan Shamayaadhan Namostu Te

यन्मया चिन्तितं दुष्टं स्वचित्तवशवर्तिना ।
अकार्यँ महदत्युग्रं तच्छ्मं नय केशव ॥
Yanmaya Chintitan Dushtan Svachittavashavartina
Akaaryan Mahadatyugran Tachchhman Nay Keshav

ब्रह्मण्यदेव गोविंद परमार्थपरायण ।
जगन्नाथ जगध्दतः पापं प्रश्मयाच्युत ॥
Brahmaṇyadēva Gōvinda Paramārthaparāyaṇa
Jagannātha Jagadhdataḥ Pāpaṁ Praśmayāchyuta

यथापरह्मे सायाह्मे मध्याह्मे च तथा निशि ।
कायेन मनसा वाचा कृतं पापमजानता ॥
Yathāparahmē Sāyāhmē Madhyāhmē Cha Tathā Niśi 
Kāyēna Manasā Vācā Kr̥Taṁ Pāpamajānatā

जानता च हृषीकेश पुण्डरीकाक्ष माधव ।
नामत्रयोच्चारणतः पापं यातु मम क्षयम् ॥
Jānatā Cha Hr̥Ṣīkēśa Puṇḍarīkākṣa Mādhava
Nāmatrayōccāraṇataḥ Pāpaṁ Yātu Mama Kṣayam

शरीरं में हृषीकेश पुण्डरीकाक्ष माधव ।
पापं प्रशमयाध त्वं वाक्कृतं मम माधव ॥
Śarīraṁ Mēṁ Hr̥Ṣīkēśa Puṇḍarīkākṣa Mādhava
Pāpaṁ Praśamayādha Tvaṁ Vākkr̥Taṁ Mama Mādhava

यद्भुंजन यत्स्वपंस्तिष्ठन् गच्छन् जाग्रद यदास्थितः ।
कृतवान् पापमधाहं कायेन मनसा गिरा ॥
Yad Bhun̄Jana Yat Svapanstiṣṭhan Gacchan Jāgrada Yadāsthitaḥ
Kr̥Tavān Pāpamadhāhaṁ Kāyēna Manasā Girā

यत् स्वल्पमपि यत्स्थूलं कुयोनिनरकावहम् ।
तद् यातु प्रशमं सर्वं वासुदेवानुकीर्तनात् ॥
Yat Svalpamapi Yat Sthūlaṁ Kuyōninarakāvaham
Tad Yātu Praśamaṁ Sarvaṁ Vāsudēvānukīrtanāt

परं ब्रहम परं धाम पवित्रं परमं च यत् ।
तस्मिन्प्रकीर्तिते विष्णौ यत्पापं तत् प्रणश्यतु ॥
Paraṁ Brahama Paraṁ Dhāma Pavitraṁ Paramaṁ Cha Yat
Tasmin Prakīrtitē Viṣṇau Yat Pāpaṁ Tat Praṇaśhyatu

यत् प्राप्य न निवतॅन्ते गन्धस्पर्शदीवर्जितम।
सूरयस्तत् पदं विष्णोस्तत् सर्वं शमयत्वधम् ॥
Yat Prāpya Na Nivatĕntē Gandhasparśhādivarjitam
Sūrayastat Padaṁ Viṣhṇōstat Sarvaṁ Śhamayatvadham

(अग्नि पुराण: १७२.१९-२१)
(Agni Purāṇa: 172.19 -21)

माहात्म्यं | Mahatmayam

पापप्रणाशनं स्त्रोत्रं यः पठेच्छृणुयादपि ।
शारीरैमॉनसैवॉग्जैः कृतैः पापैः प्रमुच्यते ॥
सर्वपापग्रहादिभ्यो याति विष्णोः परं पदम् ।
तस्मात् पापे कृते जप्यं स्त्रोत्रं सवॉधमदॅनम्॥
प्रायश्चित्तमधौधानां स्त्रोत्रं व्रतकृते वरम् ।
प्रायश्चित्तैः स्त्रोत्रजपैर्व्रतैनॅश्यति पातकम् ॥

Paāppraṇāśhanaṁ Strōtraṁ Yaḥ Paṭhēcchr̥nuyādapi
Sarvapaapgrhadibhyo Kr̥taiḥ Pāpaiḥ Pramuchyatē
Sarvapāpagrahādibhyō Yāti Viṣhṇōḥ Paraṁ Padam
Tasmāt Pāpē Kr̥Tē Japyaṁ Strōtraṁ Sarvaaghmardanam
Prāyaśchittamadhaudhānāṁ Strōtraṁ Vratakr̥Tē Varam
Prāyaśhcittaiḥ Strōtrajapairvratainĕśhyati Pātakam

( अग्नि पुराण : १७२.१९ -२१ )
(Agni Purāṇa: 172.19 -21)

Meaning of Samast Paapnashak Stotra

Pushkar ji said, always salutations to Lord Vishnu present at all places. Salutations to Lord Shri Hari. I offer my salutations to Lord Shri Hari, the devoid of the all pervading ego in my mind. I salute the avyakt present in my mind who has no end and whom no one can defeat. Worshiped by all who have neither beginning nor end, my salutations to the influential Lord Shri Vishnu. Lord Vishnu is seated in my mind and intellect. Vishnu ji is completely situated in me.

Lord Shri Hari Vishnu is situated in the form of actions of the creatures of the world. By contemplating on him every moment, my sins may be destroyed. By meditating on whom all our sins are destroyed and on contemplating them with reverence, he gives us visions in dreams, the descendants of Indra, the one who takes refuge in the suffering and the destroyer of sins, Lord Shri. I salute Vishnu (Lord Shri Hari Vishnu).

In this baseless world, I salute Lord Shri Hari Vishnu, the Supreme Soul, who lends his support to those who are immersed in ignorance and darkness.

Sarveshwar, Lord! God with lotus-like eyes! Rishikesh, I salute you. Lord Shri Hari Vishnu, the lord of all the senses, my salutations to you. Narasimha! As a pleasure! Govind! Keshav, the creator of all beings, if I have spoken abusive words or if any sinful contemplation has been done, then quench that sin of mine, salutations to you. Keshav! Calm down the unbearable contemplations that I have been possessing and angry in my mind.

Beloved of Brahmins, Govinda! Lord Jagannath, who is always in your dignity, Deveshwar who maintains the world, destroy my sin. Knowingly or unknowingly through body, mind and words during morning, afternoon, evening and night, the sins committed by you, Pundrikaksha, Rishikesh and Madhav, may all my sins be attenuated by the mere utterance of these three names of yours.

Lord with eyes like lotus, husband of Lakshmi, lord of the senses! You destroy the sins committed by my body and speech today.

Today, whatever sins I have committed while eating, walking, sleeping, standing and awake with mind, speech and body, which are evil vagina and hell, may they all be destroyed by chanting the names of Lord Vasudeva.

May all my sins be freed from the sankirtana hymns of Sri Hari Vishnu, who is the Supreme Brahman, who is the supreme abode, and who is the most holy.

After attaining that Lord Shri Hari Vishnu, the wise men attain salvation. May Shri Hari Vishnu remove all my sins.

समस्त पापनाशक स्तोत्र का अर्थ

पुष्कर जी बोले, सभी स्थानों पर उपस्थित भगवान विष्णु (Lord Vishnu) को सदा नमस्कार है। भगवान श्री हरि को नमस्कार है। मैं अपने मन में स्थित सर्व व्याप्त अहंकार रहित भगवान श्री हरि को नमस्कार करता हूं। मैं अपने मन में उपस्थित अव्यक्त जिनका कोई अंत नहीं है और जिनको कोई हरा नहीं सकता उन परमेश्वर को मेरा नमस्कार है। सभी के द्वारा पूजित जिनका न आदि है न अंत है उन प्रभावशाली भगवान श्री विष्णु को मेरा नमस्कार है। भगवान विष्णु जी (Lord Vishnu) मेरे मन और बुद्धि में विराजमान है। विष्णु जी मुझ में पूर्ण रुप से स्थित है।

जगत के प्राणियों के कर्मों के रूप में ही भगवान श्री हरी विष्णु स्थित हैं। उनका हर क्षण चिंतन करने से मेरे पापों का नाश हो जाए।  जिन का ध्यान करने मात्र से हमारे सभी पापों का नाश हो जाता है और श्रद्धा भाव से उनका चिंतन करने पर वह हमें सपने में दर्शन देते हैं, इंद्र के अनुज, शरण में आए हुओं का दुख कष्ट हरने वाले और पापों को हरने वाले भगवान श्री विष्णु (Lord Shri Hari Vishnu) को मैं नमस्कार करता हूं।

मैं इस आधार रहित जगत में अज्ञान और अंधेरे में डूबे हुए को हाथ से अपना सहारा देने वाले उन परमात्मा स्वरुप भगवान श्री हरि विष्णु (Lord Shri Hari Vishnu) को नमस्कार करता हूं।

सर्वेश्वर, प्रभु!  कमल के समान नेत्रों वाले परमात्मने!   ऋषिकेश, आपको मैं नमस्कार करता हूं। समस्त इंद्रियों के स्वामी भगवान श्री हरि विष्णु (Lord Shri Hari Vishnu)  आपको मेरा नमस्कार है। नरसिंह! आनंदस्वरूप! गोविंद! सभी प्राणियों की रचना करने वाले केशव, मेरे द्वारा जो अपशब्द कहा गया हो या कोई पाप युक्त चिंतन किया गया हो तो मेरे उस पाप का शमन कीजिए, आपको नमस्कार है। केशव! मैंने अपने मन के वशीभूत और क्रोधित होकर जो व्यवहार ना करने योग्य चिंतन किया है, उसको शांत कीजिए। 

ब्राह्मणों के प्रिय, गोविंद! सदैव अपनी मर्यादा में रहने वाले भगवान जगन्नाथ, संसार का पालन पोषण करने वाले देवेश्वर, मेरे पाप का नाश कीजिए। सुबह, दोपहर, शाम एवं रात के समय जानते हुए अथवा अनजाने में तन, मन और  वचन के द्वारा जो पाप किया हो पुंड्रिकाक्ष, ऋषिकेश और माधव आपके इन तीन नामों के उच्चारण मात्र से ही मेरे सभी पाप क्षीण हो जाएं।

कमल के समान नेत्रों वाले, लक्ष्मी जी के पति, इंद्रियों के स्वामी, प्रभु! आप आज मेरे शरीर व वाणी के द्वारा किए हुए पापों का नाश कीजिए।

आज मैंने जो भी पाप कर्म खाते हुए, चलते हुए, सोते हुए, खड़े हुए और जागते हुए मन, वचन और शरीर से किए हैं जोकि निकृष्ट योनि एवं नर्कगामी है, भगवान वासुदेव के नामों के जाप से वे सभी नष्ट हो जाएं।

जो परम ब्रह्म है, जो परमधाम है, और जो परम पवित्र हैं उन श्री हरि विष्णु के संकीर्तन भजन से मेरे समस्त पाप मुक्त हो जाएं।

उन भगवान श्री हरि विष्णु (Lord Shri Hari Vishnu) को पाने के बाद ज्ञानी महापुरुष मोक्ष प्राप्त कर लेते हैं। श्री हरि विष्णु मेरे संपूर्ण पापों का शमन करें।

Samast Paapnashak Stotra 2

Significance

The person who recites or listens to this all sinful stotra (Samast Paapnashak Stotra), all his sins are destroyed. One is freed from the sins committed by body, mind or speech and gets rid of the sinful planets and attains the supreme abode of Lord Shri Hari. When any kind of sinful action is committed, one should chant the Samast Paapnashak Stotra.

This stotra is considered as atonement for sinful deeds. It is also considered best for those who observe Chandrayan Vrat, Krichcha Vrat etc. They should also be performed rituals for the attainment of salvation.

Every human should recite this Samast Paapnashak Stotra as described in the Agni Puran. This is a very holy, powerful and powerful stotra. In the event of any minor or major sinful act knowingly or unknowingly, by reciting this stotra, all the sins are destroyed.

महात्म्य

इस समस्त पापनाशक स्तोत्र (Samast Paapnashak Stotra) का जो मनुष्य पाठ करता है या सुनता है उसके संपूर्ण पापों का नाश हो जाता हैं। शरीर से, मन से अथवा बोलकर किए गए पापों से मनुष्य छूट जाता है तथा पाप ग्रहों से मुक्त हो भगवान श्री हरि के परमधाम को प्राप्त होता है।  किसी भी तरह के पाप कर्म के हो जाने पर समस्त पाप नाशक स्तोत्र (Samast Paapnashak Stotra) का जप करना चाहिए।

इस स्तोत्र को पाप कर्म के प्रायश्चित के समान माना गया है। चंद्रायण व्रत, कृच्छ व्रत आदि को करने वाले व्यक्तियों के लिए भी है श्रेष्ठ माना गया है। भोग मोक्ष की सिद्धि की प्राप्ति के लिए भी इनका अनुष्ठान करना चाहिए।

अग्निपुरण (Agni Puran) में वर्णित इस समस्त पापनाशक स्तोत्र (Samast Paapnashak Stotra) का पाठ हर मनुष्य को करना चाहिए। यह अत्यंत पवित्र, प्रभावशाली और शक्तिशाली स्तोत्र है। किसी भी छोटे या बडे पाप कर्म के जाने या अनजाने में हो जाने पर इस स्तोत्र का पाठ करने मात्र से समस्त पापों का क्षय हो जाता है।

Leave a Comment

error:
%d bloggers like this: