Great Remedy for Desired Life Partner (Manchaha Var) | मनचाहा वर पाने के लिए पढ़ें ये अद्भुत चौपाई

Great Remedy for Desired Life Partner (Manchaha Var)

Are you looking for a good life partner and have made many efforts for this? Still no success. So we have come up with a very effective remedy for you and hope that with this remedy you will be able to fulfill your desire to get your desired life partner.

True and good life partner or desired groom (Manchaha Var) is said to be met by luck. Marriage is a sacred bond in which two souls are bound not only for this life but for seven lives. In most of the households in India, the relationships in the families are decided by the elders.

There are many who support you in your happiness in life. But when the time of sorrow comes, then only your life partner comes to your aid. Marriage is a very responsible relationship, so it is very important to maintain sweetness in the relationship and sweetness comes when you get your desired life partner. Every person has different expectations about their future life partner. In such a situation, it becomes very important to meet your desired life partner for a happy married life.

The way in which the arts of living have been told in Tulsidas’s Ramayana. In the same way, some such quadrupeds have also been told whose mere recitation can fulfill the desired wish.

There is an incident in Shri Ramcharitmanas in which Vaidehi Janaki Mata Sita (Mata Sita) also went to the temple of Jagatmata Mahagaur to wish for the bridegroom of her choice. Special worship was offered by chanting the mother’s mantra and Jagatmata Mahagauri, being pleased, gave Sita ji the boon of getting the boon she wanted, as a result, Sita ji got the form of the prince of Ayodhya, Shri Ram.

Since then, the couplets and chaupais of ‘Shri Ramcharitmanas’ have been used in the form of mantras to get desired results. It is believed that when a situation similar to the couplets or chaupai is written in this book, when a situation arises, by meditating, remembering or chanting those lines, the seekers get the welfare of the desired life partner (Manchaha Var or Desired Life) in Ramcharitmanas. Partner) is also a very beautiful incident, by meditating and chanting those quadrupeds with full faith in the form of a mantra, the desired desire is fulfilled, but the purpose of the desire should be pure and true, then only that wish becomes fruitful.

Some quadrupeds have been given in the Balkand of Ramcharitmanas, by reading which you will get the desired life partner (Manchaha Var or Desired Life Partner). This is a used remedy and is 100% effective.

 

Manchaha Var, Desired Groom

 

मनचाहा वर (Desired Groom/Manchaha Var) पाने के लिए पढ़ें रामचरितमानस रामायण में बालकाण्ड की ये अद्भुत चौपाई

क्या आप एक अच्छे जीवनसाथी की तलाश में हैं और इसके लिए कई प्रयास कर चुके हैं? फिर भी सफलता नहीं लगी। तो हम आपके लिए एक बहुत असरदार उपाय लेकर आए हैं और आशा करते हैं कि आप इस उपाय से अपने मनचाहे जीवनसाथी (Manchaha Var or Desired Life Partner) को पाने की इच्छा पूर्ण कर सकेंगे।

सच्चा और अच्छा जीवनसाथी या मनचाहा वर (Manchaha Var) कहते हैं किस्मत से मिलता है। विवाह एक पवित्र बंधन होता है जिसमें दो आत्माएं सिर्फ इस जन्म के लिए ही नहीं अपितु सात जन्मों के लिए बंध जाती हैं। भारत के अधिकांश घरों में परिवारों में रिश्ते बड़ों के द्वारा तय किए जाते हैं।

जीवन में आपके सुख में साथ देने वाले तो बहुत मिल जाते हैं। लेकिन जब दुख की घड़ी आती है तो आपका जीवन साथी ही आप के काम आता है। शादी बहुत ही जिम्मेदारी भरा रिश्ता है इस लिए रिश्तो मिठास बना रहना बहुत जरूरी होता है और रिश्तो में मिठास तब आती है जब आपको अपना मनचाहा जीवनसाथी (Manchaha Var or Desired Life Partner) मिलता है। हर व्यक्ति की अपने होने वाले जीवनसाथी को लेकर अलग-अलग अपेक्षाएं होती हैं। ऐसे में एक सुखी दांपत्य जीवन के लिए आपके मनचाहे जीवन साथी (Manchaha Var or Desired Life Partner) का मिलना बेहद ही जरूरी हो जाता है।

तुलसीदास कृत रामायण (Tulsi Ramayan) में जिस तरह से जीवन जीने की कलाओं के बारे में बताया गया है। ठीक उसी प्रकार कुछ ऐसी चौपाइयां भी बताई गई हैं जिनके उच्‍चारण मात्र से मनचाही मुराद पूरी हो सकती है।

श्रीरामचरित्रमानस (Shri Ramcharitmanas) में एक प्रसंग आता हैं जिसमें मर्यादापुरूषोत्तम भगवान श्रीराम (Shri Ram) के वरण के पूर्व वैदेही जानकी माता सीता (Mata Sita) ने भी अपने मन चाहे वर की कामना के लिए जगतमाता महागौर के मंदिर (Mahagaur Temple) में जाकर माता के मंत्र का जप कर विशेष पूजा अर्चना की थी और जगतमाता महागौरी (Mata Mahagauri) ने प्रसन्न होकर सीता जी को मन चाहे वर प्राप्ति का वरदान दिया था, परिणाम स्वरूप सीता जी को अयोध्या के राजकुमार श्रीराम वर के रूप प्राप्त हुए थे ।

तब से ही ‘श्रीरामचरितमानस’ के दोहों और चौपाइयों का मंत्र के रूप में मनवांछित फलों की प्राप्ति के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। ऐसी मान्‍यता है कि इस ग्रंथ में जो दोहे या चौपाई जिस प्रसंग में लिखे गए हैं, उससे मिलती-जुलती परिस्‍थ‍िति पैदा होने पर उन पंक्‍तियों के ध्‍यान-स्‍मरण या जप से साधकों का कल्‍याण होता है रामचरित्रमानस में मनचाहा जीवनसाथी ( Manchaha Var or Desired Life Partner) पाने का भी बहुत सुंदर प्रसंग है, उन चौपाइयों का मंत्र के रूप से पूरी आस्‍था के साथ ध्‍यान व जप करने से मनचाही कामना की पूर्ति होती है, लेकिन कामना का उद्देश्य पवित्र और सच्‍चा होना चाहिए, तभी वह कामना फलदायी होती है।

रामचरितमानस के बालकांड (Ramcharitmanas Balkand) में कुछ चौपाइयां दी गई है जिसको पढ़ने से आपको मनचाहा जीवनसाथी (Manchaha Var or Desired Life Partner) मिलेगा। यह प्रयोग किया गया उपाय है और सौ प्रतिशत कारगर है।

 

Method to Get Desired Groom (Manchaha Var)

First of all, a picture of Shiva family is to be taken in which Lord Shiva, Mata Parvati and Ganesh ji are sitting on the lap of Mother Parvati. Place this picture on a post on a red cloth and light a lamp in front of it every morning and offer it by showing incense.

 

Manchaha Var 3

 

मनचाहा वर (Desired Groom/Manchaha Var) पाने के प्रयोग विधि

सबसे पहले शिव परिवार की एक ऐसी तस्वीर लेनी है जिसमें भगवान शंकर (Lord Shiv), माता पार्वती (Mata Parvati) तथा गणेश जी (Ganesh Ji) जो कि माता पार्वती की गोद में बैठे हों। इस तस्वीर को आप एक चौकी पर लाल कपड़े के ऊपर रख लें और रोज सुबह इनके आगे एक दिया जलाएं और धूप दिखाकर भोग लगाएं।

 

Sitting in front of the Shiva family, read the chapters of Shri Ramcharitmanas Balkand from 235 to 236, which is as follows:



Quadruple (Chaupayee)

Jaani Kathin Sivachaap Bisoorati. Chalee Raakhi Ur Syaamal Moorati.

Prabhu Jab Jaat Jaanakee Jaanee. Sukh Saneh Sobha Gun Khaanee.॥1॥


Meaning:- Knowing Shiva’s bow as harsh, she went away with a visorati (moaning in her mind) keeping a dark idol of Shri Ramji in her heart. (Remembering the hardness of Shiva’s bow, she was worried that how would this sweet Raghunathji break it, there was anger in her heart at the memory of her father’s vow, so she started to lament. This happened, then as soon as she remembered the power of God, she became happy and walked with a dark image in her heart.) When Lord Shri Ramji knew the mine of happiness, affection, beauty and virtues going to Shri Jankiji, ॥1॥


Param Premamay Mrdu Masi Keenhee. Chaaru Chitt Bheeteen Likhi Leenhee.

Gaee Bhavaanee Bhavan Bahoree. Bandi Charan Bolee Kar Joree.॥2॥


Meaning:- Then by making a soft ink of supreme love, he painted his form on the wall of his beautiful mind. Sitaji again went to Bhavani’s temple and worshiped her feet and said with folded hands – ॥2॥


Jay Jay Giribararaaj Kisoree. Jay Mahes Mukh Chand Chakoree.

Jay Gajabadan Shadaanan Maata. Jagat Janani Daamini Duti Gaata.॥3॥


Meaning:- O Parvati, the daughter of Himachal’s king of the best mountains! Glory to you, hail, O Chakori, the one who gazes at the moon in the face of Mahadevji! Glory to you, O mother of elephant-faced Ganesha and six-faced Swamikartikji! O Jagajjanani! O body with a radiant body like lightning! We salute you! ॥3॥


Nahin Tav Aadi Madhy Avasaana. Amit Prabhau Bedu Nahin Jaana.

Bhav Bhav Bibhav Paraabhav Kaarini. Bisv Bimohani Svabas Bihaarini.॥4॥


Meaning:- You have neither beginning, middle nor end. Even the Vedas do not know your immense influence. You are the creator, sustainer and destroyer of the world. The one who enchants the world and roams freely॥4॥


Couplet  (Doha)
Patidevata Suteey Mahun Maatu Pratham Tav Rekh.

Mahima Amit Na Sakahin Kahi Sahas Saarada Sesh.॥235॥


Meaning:- Oh mother among the best women who consider her husband as the presiding deity! Your first count. Your immense glory cannot be called even by thousands of Saraswati and Sheshji॥235॥


Quadruple (Chaupayee)
Sevat Tohi Sulabh Phal Chaaree. Baradaayanee Puraari Piaaree.

Debi Pooji Pad Kamal Tumhaare. Sur Nar Muni Sab Hohin Sukhaare.॥1॥


Meaning:- O (begotten to the devotees) the one who gives the boon! O beloved wife of Shivaji, the enemy of Tripura! By serving you all the four fruits become accessible. Oh goddess! By worshiping your lotus feet, all the gods, humans and sages become happy.॥1॥

 

Mor Manorathu Jaanahu Neeken. Basahu Sada Ur Pur Sabahee Ken.

Keenheun Pragat Na Kaaran Teheen. As Kahi Charan Gahe Baideheen.॥2॥


Meaning:- You know my desire very well, because you always reside in the city of everyone’s heart. That’s why I didn’t reveal it. Saying this Jankiji held his feet॥2॥


Binay Prem Bas Bhee Bhavaanee. Khasee Maal Moorati Musukaanee.

Saadar Siyan Prasaadu Sir Dhareoo. Bolee Gauri Harashu Hiyan Bhareoo.॥3॥


Meaning:- Girijaji became under the control of Sitaji’s modesty and love. His garland slipped and the idol smiled. Sitaji respectfully held that prasad (garland) on her head. Gauriji’s heart was filled with joy and she said – ॥3॥


Sunu Siy Saty Asees Hamaaree. Poojihi Man Kaamana Tumhaaree.

Naarad Bachan Sada Suchi Saacha. So Baru Milihi Jaahin Manu Raacha.॥4॥


Meaning:- O Sita! Listen to our true hope, your wish will be fulfilled. Naradji’s words are always pure (without doubts, delusions etc.) and true. In which your mind has become attached, you will get the same boon.॥4॥


Verse (Chhand)
Manu Jaahin Raacheu Milihi So Baru Sahaj Sundar Saanvaro.

Karuna Nidhaan Sujaan Seelu Sanehu Jaanat Raavaro.

Ehi Bhaanti Gauri Asees Suni Siy Sahit Hiyan Harasheen Alee.

Tulasee Bhavaanihi Pooji Puni Puni Mudit Man Mandir Chalee.


Meaning:- In which your mind has become attached, you will get the same beautiful man (Shri Ramchandraji) by nature. He is the treasure of mercy and omniscient, knows your modesty and affection. In this way, hearing the blessings of Shri Gauriji, all the friends including Jankiji became happy in their heart. Tulsidasji says- After worshiping Bhavani again and again, Sitaji returned to the palace with a happy heart.


Sortha
Jaani Gauri Anukool Siy Hiy Harashu Na Jai Kahi.

Manjul Mangal Mool Baam Ang Pharakan Lage.॥236॥

 

Meaning: The joy that Sitaji felt after knowing Gauriji was favourable, cannot be said. Their left limbs started twitching, the roots of beautiful mangals॥236॥

 

शिव परिवार के सामने बैठकर श्री रामचरितमानस के बालकांड (Shri Ramcharitmanas Balkand) की चौपाई 235 से 236 तक पढ़ना है, जो इस प्रकार है-:

 

चौपाई :

जानि कठिन सिवचाप बिसूरति। चली राखि उर स्यामल मूरति॥

प्रभु जब जात जानकी जानी। सुख सनेह सोभा गुन खानी॥1

 

भावार्थ:-शिवजी के धनुष को कठोर जानकर वे विसूरती (मन में विलाप करती) हुई हृदय में श्री रामजी की साँवली मूर्ति को रखकर चलीं। (शिवजी के धनुष की कठोरता का स्मरण आने से उन्हें चिंता होती थी कि ये सुकुमार रघुनाथजी उसे कैसे तोड़ेंगे, पिता के प्रण की स्मृति से उनके हृदय में क्षोभ था ही, इसलिए मन में विलाप करने लगीं। प्रेमवश ऐश्वर्य की विस्मृति हो जाने से ही ऐसा हुआ, फिर भगवान के बल का स्मरण आते ही वे हर्षित हो गईं और साँवली छबि को हृदय में धारण करके चलीं।) प्रभु श्री रामजी ने जब सुख, स्नेह, शोभा और गुणों की खान श्री जानकीजी को जाती हुई जाना,॥1॥

 

परम प्रेममय मृदु मसि कीन्ही। चारु चित्त भीतीं लिखि लीन्ही॥

गई भवानी भवन बहोरी। बंदि चरन बोली कर जोरी॥2

 

भावार्थ:-तब परमप्रेम की कोमल स्याही बनाकर उनके स्वरूप को अपने सुंदर चित्त रूपी भित्ति पर चित्रित कर लिया। सीताजी पुनः भवानीजी के मंदिर में गईं और उनके चरणों की वंदना करके हाथ जोड़कर बोलीं-॥2॥

 

जय जय गिरिबरराज किसोरी। जय महेस मुख चंद चकोरी॥

जय गजबदन षडानन माता। जगत जननि दामिनि दुति गाता॥3

 

भावार्थ:-हे श्रेष्ठ पर्वतों के राजा हिमाचल की पुत्री पार्वती! आपकी जय हो, जय हो, हे महादेवजी के मुख रूपी चन्द्रमा की (ओर टकटकी लगाकर देखने वाली) चकोरी! आपकी जय हो, हे हाथी के मुख वाले गणेशजी और छह मुख वाले स्वामिकार्तिकजी की माता! हे जगज्जननी! हे बिजली की सी कान्तियुक्त शरीर वाली! आपकी जय हो! ॥3॥

 

नहिं तव आदि मध्य अवसाना। अमित प्रभाउ बेदु नहिं जाना॥

भव भव बिभव पराभव कारिनि। बिस्व बिमोहनि स्वबस बिहारिनि॥4

 

भावार्थ:-आपका न आदि है, न मध्य है और न अंत है। आपके असीम प्रभाव को वेद भी नहीं जानते। आप संसार को उत्पन्न, पालन और नाश करने वाली हैं। विश्व को मोहित करने वाली और स्वतंत्र रूप से विहार करने वाली हैं॥4॥

 

दोहा :

पतिदेवता सुतीय महुँ मातु प्रथम तव रेख।

महिमा अमित न सकहिं कहि सहस सारदा सेष॥235

 

भावार्थ:-पति को इष्टदेव मानने वाली श्रेष्ठ नारियों में हे माता! आपकी प्रथम गणना है। आपकी अपार महिमा को हजारों सरस्वती और शेषजी भी नहीं कह सकते॥235॥

 

चौपाई :

सेवत तोहि सुलभ फल चारी। बरदायनी पुरारि पिआरी॥

 देबि पूजि पद कमल तुम्हारे। सुर नर मुनि सब होहिं सुखारे॥1

 

भावार्थ:-हे (भक्तों को मुँहमाँगा) वर देने वाली! हे त्रिपुर के शत्रु शिवजी की प्रिय पत्नी! आपकी सेवा करने से चारों फल सुलभ हो जाते हैं। हे देवी! आपके चरण कमलों की पूजा करके देवता, मनुष्य और मुनि सभी सुखी हो जाते हैं॥1॥


मोर मनोरथु जानहु नीकें। बसहु सदा उर पुर सबही कें॥

कीन्हेउँ प्रगट न कारन तेहीं। अस कहि चरन गहे बैदेहीं॥2॥

 

भावार्थ:-मेरे मनोरथ को आप भलीभाँति जानती हैं, क्योंकि आप सदा सबके हृदय रूपी नगरी में निवास करती हैं। इसी कारण मैंने उसको प्रकट नहीं किया। ऐसा कहकर जानकीजी ने उनके चरण पकड़ लिए॥2॥

 

बिनय प्रेम बस भई भवानी। खसी माल मूरति मुसुकानी॥

सादर सियँ प्रसादु सिर धरेऊ। बोली गौरि हरषु हियँ भरेऊ॥3

 

भावार्थ:-गिरिजाजी सीताजी के विनय और प्रेम के वश में हो गईं। उन (के गले) की माला खिसक पड़ी और मूर्ति मुस्कुराई। सीताजी ने आदरपूर्वक उस प्रसाद (माला) को सिर पर धारण किया। गौरीजी का हृदय हर्ष से भर गया और वे बोलीं-॥3॥

 

सुनु सिय सत्य असीस हमारी। पूजिहि मन कामना तुम्हारी॥

नारद बचन सदा सुचि साचा। सो बरु मिलिहि जाहिं मनु राचा॥4

 

भावार्थ:-हे सीता! हमारी सच्ची आसीस सुनो, तुम्हारी मनःकामना पूरी होगी। नारदजी का वचन सदा पवित्र (संशय, भ्रम आदि दोषों से रहित) और सत्य है। जिसमें तुम्हारा मन अनुरक्त हो गया है, वही वर तुमको मिलेगा॥4॥

 

छन्द :

मनु जाहिं राचेउ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर साँवरो।

करुना निधान सुजान सीलु सनेहु जानत रावरो॥

एहि भाँति गौरि असीस सुनि सिय सहित हियँ हरषीं अली।

तुलसी भवानिहि पूजि पुनि पुनि मुदित मन मंदिर चली॥

 

भावार्थ:-जिसमें तुम्हारा मन अनुरक्त हो गया है, वही स्वभाव से ही सुंदर साँवला वर (श्री रामचन्द्रजी) तुमको मिलेगा। वह दया का खजाना और सुजान (सर्वज्ञ) है, तुम्हारे शील और स्नेह को जानता है। इस प्रकार श्री गौरीजी का आशीर्वाद सुनकर जानकीजी समेत सब सखियाँ हृदय में हर्षित हुईं। तुलसीदासजी कहते हैं- भवानीजी को बार-बार पूजकर सीताजी प्रसन्न मन से राजमहल को लौट चलीं॥

 

सोरठा :

जानि गौरि अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि।

मंजुल मंगल मूल बाम अंग फरकन लगे॥236

 

भावार्थ:-गौरीजी को अनुकूल जानकर सीताजी के हृदय को जो हर्ष हुआ, वह कहा नहीं जा सकता। सुंदर मंगलों के मूल उनके बाएँ अंग फड़कने लगे॥236॥

 

This is a very miraculous remedy and has been used. The result is available very soon. Do this remedy with full heart and devotion. You will definitely get Manchaha Var or Desired Life Partner.

 

यह एक बहुत ही चमत्कारिक उपाय हैं और प्रयोग किया हुआ है। इसका परिणाम बहुत ही जल्द मिलता है। आप पूरे मन और श्रद्धा पूर्वक इस उपाय को कीजिए। आपको मनचाहे वर (Manchaha Var or Desired Life Partner) की प्राप्ति अवश्य ही होगी।

Leave a Comment

error:
%d bloggers like this: