108 Names of Lord Ram | Best of Padma Purana (English & Hindi)

Significance of 108 Names of Lord Ram as per Padam Puran

According to Shankar ji, Goddess Parvati started reciting the Sahasranama of Lord Vishnu ji every day and only after that Parvati ji used to eat. It is a matter of one day, Lord Shankar ji was returning after worshiping Lord Vishnu ji on Kailash, then he called Goddess Parvati ji to have food with him.

Then Goddess Parvati said that Lord, I will eat food only after reciting Shri Vishnu Sahasranama, please take food.

Hearing this, Lord Bholenath ji laughed and said that Goddess Parvati, you are blessed, you are a virtuous soul because you have devotion in Lord Vishnu which is very rare.

It is very difficult and rare to get the devotion of Lord Shri Vishnu ji without luck. Hey! Parvati, I am always Rama! Ram! While chanting (Ram! Ram!), I rejoice in the name of Lord Rama.

Hey! Parvati, the name of Lord Rama is similar to the entire Sahastranaam (Name of Lord Rama is like whole Vishnu Sahastranaam). So Mahadevi! You have dinner with me at this time by chanting the name of Ram.

Hearing this, Parvati ji uttered the name of Ram and sat down to eat with Lord Shankar. After this Goddess Parvati ji asked Lord Shankar ji that hey! Deveshwar, you have said that the name of Ram is equivalent to the entire Sahasranamam, listening to this, I have developed devotion towards the name of Ram. Therefore, if you have other names of Lord Shri Ram, then tell.

Mahadev ji said – Parvati, I describe the names of Shri Ramchandra ji. Even in Sahasranama, 108 names of Shri Ram ji (108 Names of Lord Rama) have more predominance. Each name of Lord Shri Vishnu ji is considered more than all the Vedas. The name of Shri Ram alone is considered equal to a thousand names.

Ramayana Mantra

The chanting of the name of Lord Rama is achieved by many times more merit than the chanting of all the mantras and all the Vedas. Parvati Now listen to the description of the main names of Shri Ram, which have been sung by the great sages:-

पद्मपुराण के अनुसार भगवान श्री राम जी के एक सौ आठ (108) नामों का महात्म्य

शंकर जी (Shankar ji) के कहे अनुसार माता पार्वती (Goddess Parvati Mata) रोज भगवान श्री विष्णु जी (Lord Vishnu ji)  के सहस्रनाम का पाठ (Reciting Shri Vishnu Sahastranama) करने लगी तथा उसके बाद ही  पार्वती जी भोजन करती थी। एक दिन की बात है, भगवान शंकर जी कैलाश पर भगवान श्री विष्णु जी की आराधना करके लौट रहे थे तो उन्होंने देवी पार्वती जी को बुलाया कि वह उनके साथ भोजन करें।

तब पार्वती देवी ने कहा कि प्रभु मैं श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने के पश्चात ही भोजन करूंगी कृपा आप भोजन कर लें।

यह सुनकर भगवान भोलेनाथ जी (Bholaynath ji) ने हंसते हुए कहा कि देवी पार्वती आप धन्य हो, आप एक पुण्य आत्मा हैं क्योंकि भगवान विष्णु में तुम्हारी भक्ति है जो बहुत ही दुर्लभ है।

बिना भाग्य के भगवान श्री विष्णु जी की भक्ति प्राप्त होना बहुत ही कठिन और दुर्लभ है। हे! पार्वती, मैं तो निरंतर ही राम! राम! (Ram! Ram!) का जप करते हुए श्री राम नाम (Name of Lord Rama) में ही रमण किया  करता हूं।

हे! पार्वती, राम नाम संपूर्ण सहस्त्रनाम (Name of Rama is like whole Vishnu Sahastranaam) के समान है। अतः महादेवी! तुम राम नाम का उच्चारण करके इस समय मेरे साथ भोजन करो।

यह सुनकर पार्वती जी ने राम नाम का उच्चारण करके भगवान शंकर जी के साथ बैठकर भोजन किया है। इसके पश्चात देवी पार्वती जी ने भगवान शंकर जी से पूछा कि हे! देवेश्वर आपने राम नाम को संपूर्ण सहस्रनाम के तुल्य बताया है इसको सुनकर मेरे मन में राम नाम के प्रति भक्ति हो गई है। अतः आप भगवान श्री राम के और भी नाम हो तो बताइए।

महादेव जी ने कहा – पार्वती मैं श्री रामचंद्र जी (Lord Ram Chandra ji) के नामों का वर्णन करता हूं। सहस्रनाम में भी श्री राम जी के 108 नामों (108 Names of Lord Ram) की प्रधानता अधिक है। भगवान श्री विष्णु जी का एक-एक नाम सब वेदो से अधिक माना गया है। एक हज़ार नामों के बराबर अकेला श्री राम नाम माना गया है।

Mantra Remedy for Marriage | 108 Names of Lord Rama

संपूर्ण मंत्रों और समस्त वेदों के जप की अपेक्षा कोटि गुना पुण्य फल केवल राम नाम के जप प्राप्त होता है। पार्वती अब तुम श्री राम (Shri Ram) के उन प्रधान अर्थात मुख्य नामों का वर्णन सुनो जिसका गान महाऋषियों ने किया है:-

108 Names of Lord Rama

1. Shri Ramaha- In
whom the sages rejoice, in such a true form of Lord Shri Ram or Mother Sita-
Shri Ram along with Mata Sita
2. Ramchandraha – The one who gives joy like the moon and is a beautiful Shri
Ram.
3. Rambhadraha – Welfare Lord Shri Ram
4. Shasvataha – Eternal Lord Shri Ram
5. Rajeevlochanaha – One with lotus-like eyes
6. Shriman Rajendraha :- Even the king of the rich kings, the emperor of
Chakravarti
7. Raghupungavaha – All the best in Raghukul
8. Janakivallabhaha – dearest beloved of mother Sita
9. Jaitraha – victorious
10. Jitamitraha – One who conquers enemies
11. Janardanaha – Worthy to be pleaded by all beings
12. Vishwamitrapriyaha – Beloved of sage Vishwamitra
13. Daant – Jitendriya
14. Sharanyatrantatparaha – Engaged in the protection of those who have taken
refuge
15. Balipramathanaha – The one who kills the monkey named Bali
16. Vagmihi – Good orator
17. Satyavakaha – Truthful
18. Satyavikramaha – Truth mighty
19. Satyavrataha – One who firmly adheres to the truth
20. Vrataphalaha – The fruit of all fasts is attainable.
21. Sada Hanumandashrayaha – Always the shelter of Hanuman ji or the one who
resides in the heart of Hanuman ji.
22. Kausalyaha – Son of Kausalya ji
23. Khardhvansi – The one who slays the demon named Khar.
24. Viradhvadh-Panditaha – Skilled in killing a demon named Viradha.
25. Vibhishana-Paritarata:- Protector of Vibhishana
26. Dashagrivashirohar:- The ten heads who cut off the head of Ravana
27. Saptatalprabhetaha – One who pierces the seven tal trees with a single
arrow.
28. Harkodanda-Khandanaha – Those who broke the bow of Shankar ji in Janakpur
29. Jamadagnyamahadarpadalan:- Destroyer of the great pride of Parashurama
30. Tadkantakrit:- One who slays the demon named Tadka.
31. Vedantapar: A scholar of Vedanta or past even Vedanta
32. Vedatma:- Veda form
33. Bhavabandhaikheshaj:- the only form of medicine to free one from the
bondage of the world.
34. Dushanprashirosari:- Enemy of the demons named Dushan and Trishira
35. Trimurti:- Brahma, Vishnu and Shiva- the one who takes three forms
36. Triguna:- Triguna form or shelter of the three Gunas
37. Trilogy:- Three Veda Forms
38. Trivikram: – One who measures the entire triloki in three steps in Vamana
avatar.
39. Triloktma:- Soul of the three worlds
40. Punyacharitrakirtan:- Whose pastimes are revered and most sacred, such is
Lord Shri Ram.
41. Trilokrakshak: The protector of the three worlds
42. Dhanvi :- The one who holds the bow
43. Dandakaranyavasakrit:- Those who live in the Dandakaranya forest
44. Ahalya Pavan :- One who purifies Ahalya ji
45. Patribhakta:- Devotee of Father
46. Varapradah – One who bestows a boon
47. Jitendriya: One who conquers the senses
48. Jitakrodha: One who conquers anger
49. Jitalobh :- One who defeats the instinct of greed
50. Jagadguru:- Guru of all because of teaching the whole world through his
ideal characters.
51. Riksavanarasanghati:- One who organizes the army of bears and monkeys
52. Chitrakoot – Samashraya:- Those who live on the Chitrakoot mountain
53. Jayantranavarad:- The one who gave the boon to Jayant by protecting his
life.
54. Sumitraputra – Served: – Served by Lakshmana, son of Sumitra ji
55. Sarvadevadhidev:- the supreme deity of all gods
56. Mritvanarjeevan:- One who brings alive the dead apes
57. Mayamarichahanta:- One who destroys the demon named Maricha, who takes the
form of a deer through Maya.
58. Mahabhaga:- Great Lucky
59. Mahabhuj: – having big arms
60. Sarvadevastutha – Whom all the gods praise, such is Lord Shri Ram.
61. Somyaha – Calm nature
62. brahmanya:- benefactor of brahmins
63. Munisattam:- the best among sages
64. Mahayogi:- Being the abode of all yogas, a great yogi
65. Mahodar:- the most generous
66. Sugrivasthira-Rajyapada:- The one who provided a stable kingdom to the
monkey king Sugriva
67. Sarva-punyadhik-fruitpradah – the best form of all virtues
68. Smritsarvaghnashan: One who destroys all sins by mere remembrance
69. Adi Purush: – Due to the creation of Brahma ji also, the Adi Bhoot inner
Supreme Soul of all
70. Mahapurush :- Great among men
71. Param: Man:- the best man
72. Punyodaya: One who manifests virtue
73. Mahasara:- Best Essence Bhoot Paramatma
74. Puranpurushottam: – Puran Purushottama, the best Leela Purushottam from the
famous Kshar-Aksharen
75. Smitavaktra :- One who always has a smile on his face, such is Lord Shri
Ram.
76. Mitbhashihi – Low speaking
77. Poorvabhashihi – Former speaker
78. Raghavaha – Incarnated in Raghukul
79. Anantguna Gambhir:- Possessed of infinite qualities and serious
80. Dhirodattagunttar:- Containing the extraterrestrial qualities of Dhirodatta
Nayak
81. Mayamanushcharitra :- One who performs pastimes like human beings through
Maya
82. Mahadevabhipujit:- Worshiped continuously by Lord Shiva
83. Setukrit:- One who builds a bridge over the sea
84. Jitwarisha – Conqueror of the sea
85. Sarvatirthamay:- All the pilgrimage forms
86. Hari:- the destroyer of sins
87. Shyamang :- Those with shyam deity
88. Sundaraha – having a very beautiful image
89. Shoor :- endowed with incomparable bravery
90. Pitavasa :- One who wears yellow clothes
91. Dhanurdharaha – One who holds the bow
92. Sarvayajnadhipa – the lord of all sacrifices
93. Yagya:- form of sacrifice
94. Jarmaranavarjat: – devoid of old age and death
95. Shivling Pratishthata – The one who established the Jyotirlinga named
Rameshwar
96. Sarvaghaganvarjit: – Free from all sin-signs
97. Paramatma:- Supreme, eternally pure – Buddha’s free nature
98. Param Brahm – Supreme, omnipresent and supreme God
99. Sachchidanand Vigraha:- Lord Shri Ram, whose nature is the one who directs
the form of Truth, Chit and Anand.
100. Param Jyoti: The supreme luminous and knowledgeable
101. Param Dham :- Saket Dham Swaroop
102. Parakash:- Vaikunth Dham form of Param Vyom, situated in Tripad Vibhuti,
Mahakash form Brahma
103. Paratpar:- Para – God beyond the senses, the mind, the intellect
104. Paresh :- Best ruler
105. Parag: One who crosses all beings or who lives outside the bounds of the
world of Maya.
106. Par:- God attainable to the living beings who wish to cross over the ocean
107. Sarvabhuttika:- Sarva Bhutswaroop
108. Shivaha – The ultimate benefactor and welfare

These are 108 names of Shri Ramchandra ji (108 Names of Lord Rama). This name is even more confidential than confidential.

The creature who recites or listens to the 108 Names of Ram ji with devotional heart becomes free from all his sins (Samast Paap Nashak).

For the person who recites the 108 Names of Ram ji with devotion, even water becomes a place for him, the king becomes a slave, the enemy becomes a friend, the burning fire calms down. All beings become favourable, Goddess Mata Lakshmi becomes stable, all planets become favourable.

The creature who regularly recites these 108 Names of Ram Chandra ji with devotion, the beings of the three worlds become under his control and all the wishes that he has in his mind are fulfilled.

Lord Mahadev Ji says that one who chants only Ram, Rambhadra, Ramchandra, Raghunath, Nath and Sita Pati (Sitapati). Whoever chants this mantra day and night gets free from all sins and gets the blessings of Lord Vishnu. This is the ultimate welfare factor.

Jai Siya Ram Jai Jai Hanuman!!

Ram Mantra to Eradicate Disease

श्री राम के 108 नाम

१. श्रीराम:- जिनमें ऋषि मुनि  रमण करते हैं, ऐसे सच्चिदानन्दघंस्वरूप भगवान् श्री राम अथवा माता सीता-सहित श्री राम

२. रामचन्द्र:- चंद्र के समान आनन्द प्रदान करने वाले एवं मनोहर श्री राम

३. रामभद्र:- कल्याणमय भगवान श्री राम

४. शाश्वत: :- सनातन भगवान श्री राम

५. राजीवलोचन:- कमल के समान नयन वाले

६. श्रीमान् राजेन्द्र:- श्री सम्पन्न राजाओं के भी राजा, चक्रवर्ती सम्राट

७. रघुपुङ्गव:- रघुकुल में सर्व श्रेष्ठ

८. जानकीवल्लभ:- जनक दुलारी माता सीता के प्रियतम

९. जैत्र:- विजयशील

१०. जितामित्र:- शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने वाले

११. जनार्दन:- समस्त प्राणियों द्वारा याचना करने योग्य

१२. विश्वामित्रप्रिय:- ऋषि विश्वामित्रजी के प्रिय

१३. दांत:- जितेंद्रिय

१४. शरण्यत्राणतत्पर:- शरण में आये हुओं की रक्षा में संलग्न

१५. बालिप्रमथन:- बालि नामक वानर का वध करने वाले

१६. वाग्मी:- अच्छे वक्ता

१७. सत्यवाक्:- सत्यवादी

१८. सत्यविक्रम:- सत्य पराक्रमी

१९. सत्यव्रत:- सत्य का दृढ़ता से पालन करने वाले

२०. व्रतफल:- सम्पूर्णव्रतों के प्राप्त होने योग्य फल स्वरूप

२१. सदा हनुमदाश्रय:- सदैव हनुमान जी के आश्रय अथवा हनुमानजी के ह्रदय में निवास करने वाले

२२. कौसलेय:- कौसल्या जी के पुत्र

२३. खरध्वंसी :- खर नाम के राक्षस का वध करने वाले

२४. विराधवध-पण्डित:- विराध नाम के दैत्य का वध करने में कुशल

२५. विभीषण-परित्राता:- विभीषणजी के रक्षक

२६. दशग्रीवशिरोहर:- दश शीश रावण के सिर को काटने वाले

२७. सप्ततालप्रभेता:- सात ताल वृक्षों को एक ही तीर से बींध डालने वाले

२८. हरकोदण्ड- खण्डन:- जनकपुर में शंकर जी के धनुष को तोड़ने वाले

२९. जामदग्न्यमहादर्पदलन:- परशुराम जी के महान अभिमान का नाश करने वाले

३०. ताडकान्तकृत:- ताड़का नाम की राक्षसी का वध करने वाले

३१. वेदान्तपार:- वेदान्त के पारंगत विद्वान अथवा वेदांत से भी अतीत

३२. वेदात्मा:- वेद स्वरूप

३३. भवबन्धैकभेषज:- जगत के बंधनो से मुक्त करने के लिये एक मात्र औषध रूप

३४. दूषणप्रिशिरोsरि:- दूषण और त्रिशिरा नाम के राक्षसों के शत्रु

३५. त्रिमूर्ति:- ब्रह्मा,विष्णु और शिव- तीन रूप धारण करने वाले

३६. त्रिगुण:- त्रिगुण स्वरूप अथवा तीनों गुणों के आश्रय

३७. त्रयी:- तीन वेद स्वरूप

३८. त्रिविक्रम:- वामन अवतार में तीन कदमो में सम्पूर्ण त्रिलोकी को नाप लेने वाले

३९. त्रिलोकात्मा:- तीनों लोकों की आत्मा

४०. पुण्यचारित्रकीर्तन:- जिनकी लीलाओं का भजन कीर्तन परम पवित्र हैं, ऐसे भगवान श्री राम

४१. त्रिलोकरक्षक:- तीनों लोकों की रक्षा करनेवाले

४२. धन्वी:- धनुष धारण करने वाले

४३. दण्डकारण्यवासकृत्:- दण्डकारण्य वन में निवास करने वाले

४४. अहल्यापावन:- अहल्या जी को पवित्र करने वाले

४५. पितृभक्त:- पिता के भक्त

४६. वरप्रद:- वर प्रदान करने वाले

४७. जितेन्द्रिय:- इन्द्रियों पर विजय प्राप्त करने वाले

४८. जितक्रोध:- क्रोध पर विजय प्राप्त करने वाले

४९. जितलोभ:- लोभ की वृत्ति को परास्त करने वाले

५०. जगद्गुरु:- अपने आदर्श चरित्रों द्वारा समस्त संसार को शिक्षा देने के कारण सबके गुरु

५१. ऋक्षवानरसंघाती:- भालुओं एवं वानर की सेना का संगठन करने वाले

५२. चित्रकूट – समाश्रय:- चित्रकूट पर्वत पर निवास करने वाले

५३. जयन्तत्राणवरद:- जयन्त के प्राणों की रक्षा करके उसे वर देने वाले

५४. सुमित्रापुत्र- सेवित:- सुमित्रा जी  के पुत्र लक्ष्मण के द्वारा सेवित

५५. सर्वदेवाधिदेव:‌- समस्त देवताओं के भी अधि देवता

५६. मृतवानरजीवन:- मरे हुए वानरों को जीवित करने वाले

५७. मायामारीचहन्ता:- माया द्वारा मृग का रूप धरने वाले मारीच नामक राक्षस का नाश करने वाले

५८. महाभाग:- महान सौभाग्यशाली

५९. महाभुज:- बड़ी- बड़ी भुजाओं वाले

६०. सर्वदेवस्तुत:- सम्पूर्ण देवता जिनकी स्तुति करते हैं, ऐसे भगवान श्री राम

६१. सौम्य:- शांत स्वभाव

६२. ब्रह्मण्य:- ब्राह्मणों के हितैषी

६३. मुनिसत्तम:- मुनिजनों मे श्रेष्ठ

६४. महायोगी:- समस्त योगों के अधिष्ठान होने के कारण महानयोगी

६५. महोदर:- परम उदार

६६. सुग्रीवस्थिर-राज्यपद:- वानरराज सुग्रीव को स्थिर राज्य प्रदान करने वाले

६७. सर्वपुण्याधिकफलप्रद:-सभी पुण्यों के उत्कृष्टतम फलरूप

६८. स्मृतसर्वाघनाशन:- स्मरण मात्र से ही समस्त पापों का नाश करने वाले

६९. आदिपुरुष:- ब्रह्मा जी को भी उत्पन्न करने के कारण सब के आदिभूत अन्तर्यामी परमात्मा

७०. महापुरुष:- पुरुषों मे महान

७१. परम: पुरुष:- सर्वोत्कृष्ट पुरुष

७२. पुण्योदय:- पुण्य को प्रकट करने वाले

७३. महासार:- सर्वश्रेष्ठ सार भूत परमात्मा

७४. पुराणपुरुषोत्तम:- पुराण प्रसिद्ध क्षर-अक्षर पुरुषों से श्रेष्ठ लीला पुरुषोत्तम

७५. स्मितवक्त्र:- जिनके मुख पर सदा मुस्कान बनी रहती है, ऐसे भगवान श्री राम

७६. मितभाषी:- कम बोलने वाले

७७. पूर्वभाषी:- पूर्व वक्ता

७८. राघव:- रघुकुल में अवतरित

७९. अनन्तगुण गम्भीर:- अनन्त गुणों से युक्त और गम्भीर

८०. धीरोदात्तगुणोत्तर:- धीरोदात्त नायक के लोकोतर गुणों से युक्त

८१. मायामानुषचारित्र:- माया द्वारा मनुष्यों की-सी लीलाएँ करने वाले

८२. महादेवाभिपूजित:- भगवान शिव के द्वारा निरन्तर पूजित

८३. सेतुकृत:- समुद्र पर सेतु बाँधने वाले

८४. जितवारीश:- समुद्र पर विजय प्राप्त करने वाले

८५. सर्वतीर्थमय:- सर्व तीर्थस्वरूप

८६. हरि:- पाप को हरने वाले

८७. श्यामाङ्ग:- श्याम विग्रह वाले

८८. सुन्दर:- अत्यंत मनोहर छवि वाले

८९. शूर:- अनुपम शौर्य से सम्पन्न

९०. पीतवासा:- पीले वस्त्र धारण करने वाले

९१. धनुर्धर:- धनुष धारण करने वाले

९२. सर्वयज्ञाधिप:- सम्पूर्ण यज्ञों के स्वामी

९३. यज्ञ:- यज्ञ स्वरूप

९४. जरामरणवर्जित:- वृद्ध अवस्था और मृत्यु से रहित

९५. शिवलिंगप्रतिष्ठाता- रामेश्वर नाम के ज्योतिर्लिंग की स्थापना करने वाले

९६. सर्वाघगणवर्जित:‌ – सभी पाप-राशियों से रहित

९७. परमात्मा:- परमश्रेष्ठ, नित्य शुद्ध-बुद्ध मुक्त स्वभाव

९८. परं ब्रह्म- सर्वोत्कृष्ट, सर्वव्यापी एवं सर्वाधिष्ठान परमेश्वर

९९. सच्चिदानन्दविग्रह:- सत्य, चित् और आनन्द ही जिनके स्वरूप का निर्देश करानेवाला है, ऐसे परमात्मा भगवान श्री राम

१००. परं ज्योति:- परम प्रकाशमय एवं ज्ञानमय

१०१. परं धाम:- साकेत धाम स्वरूप

१०२. पराकाश:- त्रिपाद विभूति में स्थित परम व्योम नाम के वैकुण्ठधाम रूप, महाकाश स्वरूप ब्रह्म

१०३. परात्पर:- पर- इन्द्रिय, चित, बुद्धि से भी परे परमेश्वर

१०४. परेश:- सर्वोत्तम शासक

१०५. पारग:- समस्त प्राणियों को पार लगाने वाले अथवा माया जगत की सीमा से बाहर रहने वाले

१०६. पार:- भव सागर से पार जाने की इच्छा रखने वाले प्राणियों के प्राप्तव्य परमात्मा

१०७. सर्वभूतात्मक:- सर्व भूतस्वरूप

१०८. शिव:- परम कल्याणकारक एवं कल्याणमय

यह श्री रामचंद्र जी के 108 नाम (108 Names of Lord Ram) है। यह नाम गोपनीय से भी अधिक गोपनीय है।

जो प्राणी भक्ति युक्त मन से इन श्री राम जी के 108 (108 Names of Lord Ram) नामों का पाठ या श्रवण करता है वह अपने समस्त पापों से मुक्त हो जाता (Samast Paap Nashak) है।

जो व्यक्ति श्री राम जी के 108 (108 Names of Lord Ram) नामों का भक्ति भाव से पाठ करता है उसके लिए जल भी स्थल हो जाता है, राजा दास हो जाते हैं, शत्रु मित्र बन जाता है, जलती हुई आग शांत हो जाती है, सभी प्राणी अनुकूल हो जाते हैं, चंचल लक्ष्मी (Goddess Mata Lakshmi) स्थिर हो जाती है, सभी ग्रह अनुकूल हो जाते हैं।

जो प्राणी श्री रामचंद्र जी के इन 108 नामों (108 Names of Lord Ram) का भक्ति पूर्वक नियमित पाठ करता है तीनो लोकों के प्राणी उसके वश में हो जाते हैं तथा उसके मन में जो-जो कामना होती है सब पूरी हो जाती है।

भगवान महादेव जी (Lord Mahadev Ji) कहते हैं कि जो केवल राम (Ram), रामभद्र (Rambhadra), रामचंद्र (Ram Chandra),  रघुनाथ (Ragunath), नाथ (Nath) एवं सीता पति (Sitapati)) का जाप करता है उसको नमस्कार है।

इस मंत्र का जो भी दिन-रात जप करता है वह सब पापों से मुक्त हो भगवान श्री विष्णु जी का आशीर्वाद प्राप्त कर लेता है। यह परम कल्याण कारक है।

जय सिया राम जय जय हनुमान!!

Leave a Comment

error:
%d bloggers like this: